Mere Rashke Qamar Lyrics

Mere Rashk-e-Qamar / Mere Ashq-e-Zafar (My Tears of Victory) Lyrics – (Scroll down to read in English)

मेरे अश्क़-ए-ज़फर तू ये दहलीज़ पर
जब से घर में आयी सज़ा पा गया
ग़र्क़ ही कर गयी, आब ही भर गयी
आज क़िश्ती डूबाई, सज़ा पा गया

शाम में हों गर्द हुस्न की मस्तियाँ
बे-नूर सी तन्हाई सज़ा पा गया
सास के साये में, ऐ मेरे साथिया
हुक़ूमत ऐसी चलाई, सज़ा पा गया

नशा धीरे से अब दवाई बनने लगा
बस मेरी जान मैं चादर पकड़ने लगा
मेरे ख्वाब की उजड़ने लगी बस्तियां
निकाह कर के आयी, सज़ा पा गया

बेहिसाबान वो मारने आ गए
और दीवानी दीवानी से टकरा गयी
सास उनकी लड़ी यूं मेरी सास से
देख कर ये लड़ाई, सज़ा पा गया

ख़ौफ़ में ही रहा हर मुलाक़ात पर
सुर्ख़ आरिज़ हुए अब उनकी डाँट पर
उस ने थमा के मुझे हवालात में
ऐसे गर्दन दबायी, सज़ा पा गया

शेख़ साहिब का मकान बिक ही गया
देख कर गुस्सा ये बाकी सब जल ही गया
आग से खेले ये कितने मजबूर थे
छूट गयी आशनाई, सज़ा पा गया

ये Fun है शुक्र है आज बाद ये मना
उस ने लूट ली इस क़व्वाल की आबरू
अपने अल्फ़ाज़ से उसने तेरी नज़्म पर
हज्व-ए-तबस्सुम बनायी, रहा ना गया

मेरे अश्क़-ए-ज़फर तू ये दहलीज़ पर
जब से घर में आयी सज़ा पा गया
ग़र्क़ ही कर गयी, आब ही भर गयी
आज क़िश्ती डूबाई सज़ा पा गया

*******
Mere Ashq E Zafar tu ye dehleez par
Jab se ghar mein hai aayi saza paa gaya
Gark hi kar gayi aab hi bhar gayi
aaj kishtee dubaayi saza paa gaya

Shaam mein ho gard husn kee mastiyaan
Be-noor si tanhaai saza pa gaya
saas ke sa’ay mein ay mere saathiya
Hukumat aisee chalayee saza pa gaya

Nashaa dheere se ab dawai banane laga
Bas meri jaan main chaadar pakadne laga
Mere kwab ki ujadne lagi bastiyan
nikaah kar ke aayi sazaa pa gaya

Behisaaban wo maarne aa gaye
aur diwaani diwaani se takra gayi
saas unki laree yoon meri saas se
dekh kar yeh ladai sazaa pa gaya

Khauff mein hi raha har mulaqaat par
surkh aariz hu’ay ab unki ki daant par
us ne thama ke mujhe hawalaat mein
aise gardan dabaayi sazaa pa gaya

Shaikh Sahib ka makaan bik hi gaya
dekh kar gussa ye baaki sab jal hi gaya
aag se khele ye kitne mazboor the
chhut gayi aashnai saza pa gaya

Yeh Fun hai shukr hai aaj baad ye fana
Us ne loot li iss qawaal ki aabroo
apne alfaz se usne teri nazm par
hajw-e-tabassum banaayi, raha na gaya

Mere Ashq E Zafar tu ye dehleez par
Jab se ghar mein hai aayi saza paa gaya
Gark hi kar gayi aab hi bhar gayi
aaj kishtee dubaayi saza paa gaya

***********
With sincere apologies to Fana Buland Shehri, the original composer

❤️

Thank you for reading. Hope you enjoyed it. Please add your comment below and share with your friends.

There are more songs on my page. Visit/like/follow to stay connected. Bad Parodies

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s